in

मासूम की मासूमियत पर परिवेश का प्रभाव

मासूम की मासूमियत पर परिवेश का प्रभाव

बचपन जिंदगी का वो सबसे खूबसूरत और खुशनुमा अवस्था है जहाँ चाँद- तारों की बात होती है,तितलियों के पीछे भागता सतरंगी ख्वाब होता है,बागों में आम की लटकी मंजरो में मासूमियत अपना रंग चुनती है।एक कागज की नाव काफी होती है बारिश की बूंदों के लिये,नानी -दादी की कहानियां में परियों का आना माँ-पापा की प्यार में सुरक्षित बचपन……..
पर अब सबकुछ बदल चुका है।मासूम बचपन अब मासूम नहीं रह गया है उसपर अकेलेपन की परत जमती जा रही है।खिलौने के बीच खिलखिलाता बचपन अब प्यार की तलाश में खोता जा रहा है।स्कूल के बैगों में भरता किताबी ज्ञान उन्हें ज्ञाता तो बना रहा है पर उनके मासूम पलों के क्या?
आज की आधुनिक दिनचर्या,भागता वक़्त,व्यस्त अभिवावक इन तीनों चीजों से जो महत्वपूर्ण पहलू सबसे ज्यादा प्रभावित हो रहा है वो है मासूम बचपन।ये तय है कि माता पिता हमेशा अपने बच्चों का भला चाहते है,उन्हें कितनी भी कमी हो पर अपने बच्चों के लिए वो दुनिया की सारी खुशियां सहेजना चाहते है बस इसी सहेजना की प्रकिया में एक चीज बिखर जाता है वो है
मासूमियत बच्चों का।उनके कई सवाल सवाल ही बनकर रह जाते हैं और बचपन बढ़ता चला जाता है। दुर्भाग्य की बात है कि हम आधुनिक कहलाने की हौड़ में पाश्चात्य शैली को अपनाने लगे है।हम विकास की बड़ी बड़ी बातें करते है पर जब हमारे बच्चें अपने शारीरिक और मानसिक विकास की बाते करते है,तो हम उन सवालों के जवाब में झेंप महसूस करते है ऐसे में वो बच्चें इन सवालों का जवाब अपने आप ही ढूंढ़ने की कोशिश करने लगते है,तब शुरुआत होती होती है भटकाव की!मोबाइल,इंटरनेट,साइबर ये सब तो माध्यम है अधकचरे सवालों का।असली गुनाहगार तो हम है,जो उनकी भावनाओं को,उनकी समस्याओं को समझ ही नहीं पाते।अगर हम बच्चों के दोस्त बनकर मिलेंगे तो कोई कारण नही रह जाता कि वो अपनी बातें शेयर न करे।पहले सयुंक्त परिवार हुआ करते थे।बड़ों की छाया में बचपन सुरक्षित रहता था और निश्चित भी ।परिवार के सभी सदस्यों के बीच बचपन फलता -फूलता था।एक दूसरे के प्रति सबों का व्यवहार ,बड़ों का सम्मान, छोटों पर अधिकार कुछ ऐसी बातें थी जो संस्कार की नींव मजबूत रखती थी।पर आज एकाकी परिवार ने बच्चों के पास समय बीताने के लिए टी .वी रख छोड़ा है या इंटरनेट,मोबाइल और उसपर आने वाले तरह तरह के कार्यक्रम।गलत कुछ नहीं,अगर चुनाव सही हो।अगर हम बच्चों पर इन कार्यक्रमों के जरिये नजर रखेंगे,तो पता चलेगा कि उनका रुझान किस तरफ है? माँ-बाप दोनों की ही ये सबसे बड़ी जिम्मेदारी है कि वो बच्चों को अच्छी शिक्षा ही नहीं, अच्छे संस्कार भी दे।मंहगे स्कूल,महंगी शिक्षा,महंगे कपड़े स्टेटस सिंबल तो हो सकते है लेकिन आपके अच्छे इंसान होने की गारंटी नही ये मिलती है बच्चों में संस्कार की नींव डालकर जहाँ वो अपनी बात दिल खोलकर आपके सामने रखे।
बच्चों पर सबसे ज्यादा प्रभाव उनके परिवेश के पड़ता है,जैसा वो देखते है वैसा ही अपने स्वभाव में ढालने की कोशिश करते है।पति-पत्नी का आपस संबंध , माता-पिता का आपसी संबंध,बुजुर्गों के साथ सबों का रवैया,बड़ों का सम्मान,छोटो को प्यार,हमारी संस्कृति और उनसे मिलने वाली शिक्षा ये कुछ मूलभूत बुनियादी बातें है जिसपर बचपन टिका होताहै। आपसी सहयोग एक सुरक्षा की भावना विकसित करती है जहाँ बचपन खिलखिलाता है और पुष्पित होता है।बच्चों पर कही बातों से ज्यादा असर उन बातों का होता है जो वो अपने आस-पास घटित होते देखते है।बड़ी ही सरल बात है कि अगर बच्चें ये देखेगे की उनके दादा-दादी का सम्मान उनके माता-पिता बखूबी करते है तो वो खुद उससे प्रेरित होंगे।यहाँ शब्द नहीं एक तुलनात्मक व्यवहार ही उन्हें प्रेरित करने के लिए काफी है।पहले सयुंक्त परिवार की संख्या ज्यादा हुआ करते थे,बच्चों के सामने रिश्तों की एक फौज हुआ करती थी,दादा-दादी,बुआ-फूफा,चाचा-चाची इन सारे रिश्तों के बीच बचपन पनपता था और रिश्तों की मर्यादा खुद ब खुद दिखती थी। आज शहरीकरण के इस युग में परिवार तो एकाकी हो ही गया है ,आवश्यकता इतनी बढ़ गयी है कि माँ-पिता दोनों को ही काम पर जाना पड़ता है।ऐसी स्थिति में या तो बच्चें खुद आत्मनिर्भर होकर अपनी सुरक्षा का जिम्मा उठाते है या उनके देखभाल के लिए एक आया कि आवश्यकता होती है।यहाँ से शुरुआत होती है संगत की,एक बाहरी कितना समझेगी उन बच्चों की जरूरतों को। माँ का दायित्व यहाँ कुछ और बढ़ जाता है कि वो बच्चों की हर गतिविधियों की जानकारी उनसे बातचीत या हाव्-भाव के जरिये लेती रहे।आज का दिन कैसा रहा,आपने क्या-क्या किया,क्या सीखा आज,कोई परेशानी भी हुई ये कुछ सवाल ऐसे है जो उन्हें आपसे जोड़े रखेगी।
एक महत्वपूर्ण बात जिसपर गौर करना सबसे जरूरी है वो है बच्चों के बीच भेद- भाव।लड़कों – लड़कियों के बीच दायरों का बंधन बराबर सीमा रेखा में खींचा जाना चाहिये।बच्चों को सुधारने व बिगाड़ने में पहली भूमिका भी माँ- बाप की ही होती है।उनके जरा सा रूठने पर उनकी सारी फरमाईशें पूरी कर देना बिना उन्हें ये समझायें की सही क्या है और गलत क्या है।आखिर जरूरतें पूरी कैसे की जाये इसमें उन्हें भी शामिल करें ताकि वो माता-पिता की आर्थिक दशा से भी परिचित हो सके।बेटा – बेटी इन्हें भी सभी विषय पर अपनी राय रखने दे ताकि उनकी मनोदशा से आप परिचित ही सके।
कभी कभी बच्चें अपनी बात मनवाने के लिए खाना -पीना छोड़ देते है,जो एक प्रकार की जिद है अपनी सही या गलत बात मनवाने की,ऐसे में माता-पिता को चाहिए जरूरत और सही माँग को खुद समझे और उन्हें भी समझने दे। उनकी जिद को नजरअंदाज भी करना चाहिए ताकि वो हर छोटी मोटी बातों पर ये आदत न दोहराये।
अक्सर परिवार में ये देख जाता है लड़कों को खेलने के लिए खिलौने के तौर पर पिस्तौल,बन्दूक जैसी चीजें देकर आक्रमक बनाया जाता है ये तो एक सिंबल हुआ कि तुम मुझे मरोगे तो मैं पिस्तौल उठाकर मारूँगा।
उन्हें आक्रमक नहीं सकारात्मक बनाईये।घर में बेटी है तो उन्हें बहन की इज्जत करना सिखाईये।दीदी ये कर सकती है तुम ये कर सकते हो,ये गलत है तुम दोनों ही सबकुछ कर सकते हो ये सही सोच है।हमें बेटों के अंदर इस मानसिकता को विकसित करना चाहिए कि बहन भी उनकी ही तरह बराबरी की हकदार है,बेटों को इस बात का एहसास न होने दे की बहन कमजोर है या तुमसे अलग है।लिंग विभेद मामले में अपने बेटों को कभी प्रश्रय न दे।यही काम स्कूलों और कॉलेजों में भी होना चाहिये ताकि लड़के-लड़की का भेदभाव काफी हद तक दूर हो।बच्चों के साथ अभिभावकों का दोस्ताना संबंध रहना चाहिये ताकि वो बाहर होने वाली तमाम बातों को खुलकर बता सकें।बच्चों की बातें को कभी नजरअंदाज नहीं करना चाहिये।इसी लापरवाही के चलते समाज में तरह तरह की घटनाएँ घटित होती है।शिक्षा का मकसद सिर्फ आपको शिक्षित बनाना नहीं बल्कि आपको एक अच्छा इंसान बनाना भी होना चाहिये।। बच्चे जब पढ़ने लगते है तो उनका सामाजिक दायरा भी बढ़ता चला जाता है।एक नया माहौल,शिक्षक,नये-नये दोस्तों और उनकी संगति ये सारी बातें उनके विकास को प्रभावित करती है।अगर माँ बच्चे की पहली पाठशाला है तो विद्यालय दूसरी।यहाँ होने वाली सारी गतिविधियों की जानकारी माता- पिता को होनी चाहिये।स्कूल की सारी बातें उनसे जरूर सुने।आपकी उत्सुकता उनका मनोबल बढ़ायेगी और वो छोटी से छोटी बातें आपसे शेयर करेंगे।
एक बात पर हम गौर करेंगे तो पायेंगे कि आज कल परिवार में किताबों का ,साहित्य का आगमन अमूनन कम हो गया है।पढ़ने की जगह देखने ने ले ली है।साहित्य समाज का दर्पण होता है,हितोपदेश,पंचतंत्र की कहानियाँ हमारे बचपन में माँ सुना सुनाकर कितनी सारी ज्ञान की बातें हमें सीखा देती थी पर क्या वो कहानियां हम अपने बच्चों को सुना रहे है? उनमें किताबें पढ़ने की आदत विकसित हो इसलिए जरूरी है कि हम भी उनके साथ पढ़ने की आदत डालें।अक्सर हम बच्चों को तोहफे में अनगिनत चीजें देते है लेकिन क्या उनमें कुछ किताबें नहीं हो सकती जो उनमें पढ़ने का रुझान पैदा करे! किताबें इंसान की सबसे अच्छी दोस्त होती है उन्हें समझाना होगा।
समय का सही मूल्यांकन उनके सही उपयोग से होता है।बच्चों को समय की कीमत समझानी होगी ताकि वो अपनी जवाबदेही ले सके।
पढ़ाई,खेलकूद,मनोरंजन इन सब के बीच सामंजस्य बैठाने की कला उन्हें आनी चाहिए। एक अनुशासित जीवन दर्शन बनाने के लिए हमें खुद अनुशासन में रहना होगा।हर दायरे की एक सीमा रेखा होनी चाहिए,अगर खेल का समय तय है तो बस उसी समय में खेल होना चाहिये,पढ़ने का समय निश्चित है तो जरूरी है समय का पालन किया जाये।एक अनुशासित जीवन विकास का मार्ग खोलती है।बालपन में ही डाली हुईं इसकी नींव बुनियाद को मजबूत करती है। बच्चों के साथ क्वालिटी टाइम बिताना,उनके साथ खेलना,घूमने जाना ये कुछ ऐसी बातें है जो उनका आत्मविश्वास और आप पर उनका विश्वास अडिग करता है।
बचपन कई अवस्थाओं से गुजरता है,
बालपन की मस्ती कब युवा अवस्था में पहुँच जाती है पता ही नहीं चलता है।तरह तरह कर नये सवाल बच्चों के मन में उमड़ते रहते है,सही दिशा निर्देशन की आवश्यकता तब और भी बढ़ जाती है।तितलियों के पीछे भागता बचपन,बागों और बगीचे की परिकल्पना से निकलकर एक नई दुनिया में भर्मण करने लगता है।बाहरी दुनिया रंग- बिरंगी और घर उन्हें कैद लगने लगता है।दोस्तों की संगति और उनके साथ समय बिताना ,गप्पें मारना बस।ख्वाबों की इस दुनिया में सपने ज्यादा होते है। बचपन या युवा अवस्था जीवन का वो अंतराल है जब मिट्टी से बने साँचें की तरह बच्चों की ढालना माता- पिता की नैतिक जिम्मेदारी हो जाती है।हर बच्चें की अपनी खाशियत और सोच होती हैं।बालमन एक कोरे स्लेट की तरह है जिसपर जितने प्यार और सुंदरता से लिखा जाएगा उतना ही अच्छा फल आयेगा।परवरिश बड़ी नाजुक चीज है क्योंकि माता -पिता दोनों को मिलकर बच्चों की हर गतिविधि पर नजर रखनी होती है।जिस प्रकार हर पौधा अलग अलग खाद और पानी खोजता है वैसे ही हर बच्चा अपने आप में खास होता है , बिल्कुल अलग,हर बच्चें को उनके ही तरह का लालन पालन देना होता है। माँ बाप की जिम्मेदारी और भी बढ़ जाती है जब बच्चें अपनी जिम्मेदारियों से भागते है,उन्हें आत्मनिर्भरता का पाठ पढ़ाना,स्वालंबी बनाना ये सब इन बातों के अंतर्गत आता है। एक बात गौर करने वाली है कि अगर हम बच्चें से अनुशासन की बात करते है तो खुद अनुशासित है कि नहीं।उन्हें कहेंगे बेटा 5 बजे उठा करो ,सेहत के लिए अच्छा है,खुद 9 बजे उठेगे तो क्या ये सही होगा?
होली के रंग हो या दीवाली की रोशनी हम अपने बुजुर्गों का आशीर्वाद लेकर दिन की शुरुआत करते है,इन संस्कारों और व्यवहारों को बच्चें अगर बचपन से देखते आ रहे है तो कोई कारण नहीं कि ये दृष्टिकोण प्रथा में न बदले।बचपन में एक कहानी पढ़ा था मैंने ,आपके समक्ष रख रही हूँ।किसी शहर में एक परिवार हुआ करता था माता-पिता उनके दो बच्चें और दादा-दादी। दादा- दादी बूढ़े हो चले थे और अपनी ही संतान की नजर में बोझ हो चुके थे।उनकी मौत का इंतजार कर रहे संतान ने अपनी
पत्नी से कहा, बहुत हो गया ये तो जाने का नाम ही नहीं लेते ऐसा करता हूँ पास में ही जंगल है एक बड़ा सा गड्ढा खोदता हूँ और उसी में दोनों को ढकेलकर ऊपर से मिट्टी डाल देता हूँ किसी को पता भी नहीं चलेगा,ये बातें उनके
दोनों बच्चों ने सुन ली।
अगले दिन सुबह सुबह उन्हें अपने आँगन से
जोर-जोर की आवाज सुनायी दी,दौड़ते हुए पहुँचे तो देखा दोनों बच्चें गड्ढे खोद रहे थे,उन्होंने आश्चर्य से पूछा “बेटा आप लोग क्या कर रहे हो,ये गड्ढा क्यों खोद रहे हो,बच्चे ने कहा “पापा कल हमने आपकी बातें सुनी थी,हमें लगा कि कल आप दोनों जब बूढ़े हो जाओगे तो हम आपको इंतजार भी नहीं करवाएँगे सीधे इस गड्ढे में डाल देंगे।” इतना सुनना था कि माँ पिता की आँखे भींग गयी कि हमारे बच्चों ने हमें सही रास्ता दिखा दिया। ऐसा ही होता है इंसान जैसा बोता है वैसा ही फल पाता है यानी उसके कर्मों का प्रतिफल बच्चों के माध्यम से मिल ही जाता है।इसलिए ये नितांत जरूरी है कि अपने व्यवहार से बच्चों के सामने एक आदर्श प्रस्तुत करें।बालमन एक सफेद कैनवस की तरह होता उसपर जो लिखा जाता है वो तमाम रह जाता है, अनगिनत उमड़ते सवाल बच्चों की मनोदशा पर मँडराते रहते है माता-पिता को चाहिए बच्चों को ,उनके मनोभावों से ही समझने की कोशिश करे। एक खुला आकाश व्यक्तित्व के विकास के लिये जरूरी तो है
लेकिन इस उड़ान के पतंग की डोर माता-पिता के हाथों में होनी चाहिए। जब पतंग की डोर ढीली होती है पतंग जमीन पर आ गिरती है उसी तरह अगर हमारी भी डोर ढ़ीली पड़ेगी तो हमारे भी संतान रूपी पतंग जमीन पर आ गिरेगी।हम अक्सर ये सोचते है कि बच्चों के गलत कामों की आलोचना करेंगे तो वो सुधर जायेंगे लेकिन यर गलत है हमेशा आलोचना का बच्चों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है जो उनके व्यक्तित्व को प्रभावित करती है।बच्चों के मन में एक हीन भावना घर कर लेती है वो कुछ भी करने से घबराने लगते है,खुद को दुनिया से छिपाने लगते है।फिर यही डर उनके आत्मविश्वास को कमजोर कर देता है।इसलिए माता – पिता को चाहिये बच्चों को प्यार से समझायें,उनके सही कामों की तारीफ करें इसका उनपर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है वों और बेहतर करने की कोशिश करने लगते है।हर बच्चें में अलग अलग खाशियत होती है ये माता- पिता की जिम्मेदारी है कि उनके गुण-अवगुण का बारीक निरीक्षण करें।आज के इस युग में हर इंसान अपनी ही परेशानी में उलझा है।अगर हम पिछले साल के ऊपर दृष्टि डालें तो देखेंगे सभी कोरोना को लेकर चिंतित है लेकिन एक और बड़ी समस्या है जिसपर लोगों का ध्यान कम है लेकिन ये बढ़ती ही जा रही है वो है मासूमों में बढ़ता अवसाद,बच्चें इस समय खेल नहीं पा रहे है,बाहर निकलना बंद हो चुका है,सभी बाहर की मनोरंजक गतिविधियों पे अंकुश लग चुका है।अगर बचपन को मासूमियत से जोड़कर देखा जाये तो भी हम पायेंगे घर मे बन्द बच्चे चिड़चिड़ेपन और गुस्से का शिकार बनते जा रहे है,ऐसे में माता-पिता को चाहिए को वो बच्चों के साथ “क्वालिटी टाइम” बिताये,उन्हें अपने साथ घुमाने ले जाये,उनके साथ खेले ,ताजी हवा और धूप ये दोनों ही सबों की जरूरत है।समस्या को सही समय पर पहचान कर उसका इलाज करना ही समाधान है।ये तो तय है कि अगर हम अपनी गलत आदते बदलेंगे तो जिंदगी बदलेगी और यहीं से होगी एक अच्छी शुरुआत! बचपन का दौर बड़ा मासूम होता है उसमें न तो सयानेपन की दौड़ होती है,न परेशानियों के लिये जगह,बारिश की बूंदों के साथ कागज की नाव ,रात में माँ के साथ परियों की कहानी।जिंदगी की
भागदौड़ कभी खत्म नहीं होगी,बच्चें भी धीरे-धीरे बड़े हो जायेंगे,लेकिन जो लम्हें हम उन्हें देते है,उनके साथ रहकर बीताते है वो ताउम्र की सबसे बड़ी धरोहर बन कर रह जाते है,इसलिए हमें चाहिये कि इन पलों की परवरिश बड़े जतन से करें।
बच्चें ही कल का भविष्य है उनपर ही परिवार,समाज और देशका जिम्मेदारी निर्भर करती है ,एक सजग नागरिक ही अपने नैतिक कर्तव्यों का पालन कर सकता है,अतः ये नितान्त आवश्यक है कि हम बच्चों को राष्ट्र निर्माण और देश के प्रति वफादारी निभाना भी सिखाये
क्योंकि सम्मान और देशप्रेम की भावना भी संस्कारों पर निर्भर करती है।बच्चों को हमारे स्वत्रंतता सेनानी की कहानी सुनायी जाएं ,उन्हें देशभक्तों की जीवनी पढ़ने के लिए प्रेरित करना भी अभिभावकों का फर्ज है।
बहुत सी बातें ऐसी है जो बच्चों की मानसिक दशा को प्रभावित करती है ,उनका मानसिक,शारीरिक और सामाजिक विकास इसी माहौल से प्रभावित होता है,वो जो देखते है,सुनते,समझते है सभी कुछ का प्रभाव उनपर पड़ता है।बच्चें तो मिट्टी के होते है उन्हें जिस सांचे में ढाला जाये ये उनकी परवरिश पर निर्भर करता है।अक्सर देखा जाता है कि एक मिलिट्री परिवार का बच्चा तुलनात्मक रूप से ज्यादा अनुशासित होता है,उसके हर काम का एक वक्त तय होता है। क्योंकि अनुशासन हीं उनके परिवार का नींव होता है।एक डॉक्टर का बेटा डॉक्टर,शिक्षक का बेटा शिक्षक अमूनन यही होता है।लेकिन हमेशा ऐसा नहीं होता हर बच्चें की चाहत अलग होती है,वो कुछ अलग करना चाहते है इसलिये हमेशा अपनी मर्जी उनपर नहीं थोपनी चाहिये,न ही बेवजह उन्हें डॉटते रहना चाहिये।उनकी बातें सुनना और उनका जिंदगी के बारे नजरिया जानना बहुत जरूरी है।कदम कदम पर जीवन में संघर्ष भरा पड़ा है ,आधुनिकता के इस दौर में किसी के पास किसी के लिये समय नहीं है,परिवारों में सभी का खाने का समय भी उनके अनुसार तय होता है,होना तो ये चाहिये कि तीनों वक़्त यानी सुबह का नाश्ता,दोपहर का लंच,रात का डिनर सभी एक साथ करे,उस वक़्त मोबाइल बंद और परिवार चालू रहना चाहिये।इससे सबों के बीच नजदीकियां बढ़ेगी जो बहुत जरूरी है क्योंकि युवा को सही दिशा निर्देशन की आवश्यकता हैं।
युवा पीढ़ी किसी भी देश की कर्णधार होती है उनपर ही देश का भविष्य निर्भर करता है।ताकत,हौसला,हुनर ये कुछ ऐसी बातें है जो युवा लोगों की पहचान होती है।लेकिन अफसोस कि बात है कि आज की पीढ़ी एक ऐसे दौर से गुजर रही है जहां भटकाव के रिश्ते है जो उन्हें दृगभर्मित कर रहे है,अपनों से छिपाने की मानसिकता ने उन्हें मानसिक तनाव दे डाला है। कितने दुख की बात है कि अपनो के बीच रहकर भी वो अपनी बातें,सुख-दुख,परेशानियों को अपनों को बता नही पाते।
इंटरनेट के बढ़ते प्रभाव ने उन्हें बाहर की दुनिया के करीब और अपनों से बहुत दूर कर दिया है। आज हर इंसान कुछ न कुछ बनना चाहता है,करना चाहता है। महत्वाकांक्षी होना गलत नहीं,गलत है सफल न होने पर हर मान लेना।डॉक्टर बनना,इंजीनियरिंग करना,बैंक ऑफिसर होना ये लक्ष्य हो सकता है पर इस लक्ष्य को पाने के लिये जी तोड़ मेहनत भी तो करनी होती है।चलिये ये मान भी लेते है कि बहुत मेहनत हुई पर सफलता हाथ नहीं लगी तो आप इतने निराश हो जायेंगे कि जीना ही छोड़ देंगे। अपनी असफलता से सबक लेना ही जीत है पर युवा पीढ़ी तुरंत हार मान लेती है और
मानसिक तनाव का शिकार हो जाती है ये सबसे बड़ी गलती होगी ।छोटी सी उम्र में बहुत कुछ पा लेने की लालसा ,समाज में खुद को सत्यापित करने की चाह,फैशन की अंधी दौड़,स्पर्धा कुछ ऐसे कारण है
जो युवाओं में मानसिक विकृति के कारण बनते है रहे।परिवार का टूटना भी इन्ही कारणों से होता है
की हम खुद को अपनों से ही छिपाने लगते है।अपनी परेशानियों का इलाज युवा वर्ग बाहर खोजता है जो गलत है।सहीदिशा निर्देश के अभाव में उनके जीवन में
मानसिक तनाव का बढ़ना लाजिमी है।ऐसे में बहुत जरूरी है कि उनमें सकारात्मक सोचों का विकास किया जायें।युवा पीढ़ी को साहित्य और महान हस्तियों की जीवनी पढ़नी चाहिए ताकि वों समझ सके कि तनाव नहीं संघर्ष ही हर समस्या का इलाज है।जीवन से बड़ा कोई आशिर्वाद नहीं,मानव जन्म कुंठा के लिये नहीं अपने आपको सकारात्मक दिशा में मोड़ने का है।माता -पिता को चाहिए कि बच्चों को खासकर युवा पीढ़ी को वक़्त दे उनकी बातें सुने,उनकी परेशानियों को समझे और उन्हें समझाये।एक दोस्ताना व्यवहार उन्हें काफी हद तक
मानसिक तनाव से निकाल सकता है।माता-पिता की पैनी नजर उनकी सारी परेशानियां खत्म कर सकती है।
मैं तो सिर्फ यही कहना चाहूँगी आपके बच्चें आपकी सबसे बड़ी पूँजी है,इनके संवरने पर ही आपकी नैतिक,सामाजिक और पारिवारिक मूल्यों में इजाफा होगा। अच्छी संतान पाना खुदा की नियामत होती पर उनकी अच्छी परवरिश कर उन्हें अच्छा इंसान बनाना आपकी जिम्मेदारी है,उन्हें प्यार दीजिये,वक़्त दीजिये क्योंकि कल उनके पास हमारे लिये वक़्त नही होगा।संस्कारों की जो अमिट छाप आप उनपर अंकित करेंगे वो हमेशा रह जायेगी।गंगा -यमुना तहजीब की जानकारी इन बच्चों को भी रहनी चाहिये।घर में पढ़ी जाने वाली गीता -रामायण हमारी संस्कृति की परिचायक है।बच्चें उन्हें सुने,पढ़े और समझे तो कोई कारण नहीं रह जाता कि उनके बालमन पर इसका प्रभाव न पड़े।
मैं तो बस यही कहना चाहूँगी ये बच्चे आपकी जरूरत ही नहीं,सृष्टि का अनुपम उपहार भी है इसे बस प्यार से सवारियें।इनका आज जितना स्नेही होगा जीवन उतना ही सुंदर होगा।इन्हें स्नेह और विश्वास की डोर से बांधिये बस यही जीवन दर्शन आपसी रिश्ते की डोर मजबूत रखेगी।

राधा शैलेन्द्र

What do you think?

Written by admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

नीरजा

नीरजा

दूसरा पहलू

कहानी – दूसरा पहलू