in

बरवै छंद “शिव स्तुति”

बरवै छंद “शिव स्तुति”

सदा सजे शीतल शशि, इनके माथ।

रसरिता सर सोहे, ऐसो नाथ।।

सुचिता से सेवत सब, है संसार।

हे शिव शंकर संकट, सब संहार।

आक धतूरा चढ़ते, घुटती भंग।

भूत गणों को हरदम, रखते संग।।

गले रखे लिपटा के, सदा भुजंग।

डमरू धारी बाबा, रहे मलंग।।

औघड़ दानी तुम हो, हर लो कष्ट।

दुख जीवन के सारे, कर दो नष्ट।।

करूँ समर्पित तुमको, सारे भाव।

दूर करो हे भोले, भव का दाव।।

==============

बरवै छंद विधान –

यह बरवै दोहा भी कहलाता है। बरवै अर्द्ध-सम मात्रिक छंद है। इसके प्रथम एवं तृतीय चरण में 12-12 मात्राएँ तथा द्वितीय एवं चतुर्थ चरण में 7-7 मात्राएँ हाती हैं। विषम चरण के अंत में गुरु या दो लघु होने चाहिए। सम चरणों के अन्त में ताल यानि 2 1 होना आवश्यक है। मात्रा बाँट विषम चरण का 8+4 और सम चरण का 4+3 है। अठकल की जगह दो चौकल हो सकते हैं। अठकल और चौकल के सभी नियम लगेंगे।

********************

बासुदेव अग्रवाल ‘नमन’ ©

तिनसुकिया

What do you think?

Leave a Reply

Your email address will not be published.

images 1 1

प्रकृति शक्ति रौद्र रूपा

1651986920711 3

जलहरण घनाक्षरी (सिद्धु पर व्यंग)