बिटिया
in

प्यारी बिटिया रानी

मेरी प्यारी बिटिया रानी,
दर्पण में अपनी सुन्दर छवि देख,
तनिक ना तुम इतराना,
दुनिया में बेखौफ जीने का,
हर हुनर तुम सीख जाना।

पग पग पर होगी तेरी परीक्षा,
लोगों की बेकार बातों से,
तनिक ना तुम घबराना,
अपने हौसलों से तुम पार हो जाना।

अपने संस्कारों में तुम बंधी रहो,
लेकिन हो यदि संस्कारों के नाम,
तुम पर कोई अत्याचार अगर तो,
सब कुछ खामोशी से ना सहती जाना।

रूप रंग के मोह पाश में ना तुम बंध जाना,
खुद को मेहनत की आग में बहुत तपाना,
बन सको औरों का भी संबल एक दिन,
अपने क्षेत्र में प्रसिद्धी का ऐसा परचम तुम लहराना।

-नीता चौहान

What do you think?

Written by Sahitynama

साहित्यनामा मुंबई से प्रकाशित साहित्यिक पत्रिका है। जिसके साथ देश विदेश से नवोदित एवं स्थापित साहित्यकार जुड़े हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

helplessness

लाचारी

रोटी

रोटी