20220813 152812 scaled
in

दोहा छंद “वयन सगाई अलंकार”

वयन सगाई अलंकार / वैण सगाई अलंकार

चारणी साहित्य मे दोहा छंद के कई विशिष्ट अलंकार हैं, उन्ही में सें एक वयन सगाई अलंकार (वैण सगाई अलंकार) है। दोहा छंद के हर चरण का प्रारंभिक व अंतिम शब्द एक ही वर्ण से प्रारंभ हो तो यह अलंकार सिद्ध होता है।

‘चमके’ मस्तक ‘चन्द्रमा’, ‘सजे’ कण्ठ पर ‘सर्प’।’

नन्दीश्वर’ तुमको ‘नमन’, ‘दूर’ करो सब ‘दर्प’।।

 

‘चंदा’ तेरी ‘चांदनी’, ‘हृदय’ उठावे ‘हूक’।

‘सन्देशा’ पिय को ‘सुना’, ‘मत’ रह वैरी ‘मूक’।।

दोहा छंद विधान 

 

बासुदेव अग्रवाल ‘नमन’ ©

तिनसुकिया

What do you think?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Screenshot 20221001 124106 Chrome

कह रही है अजन्मी

images 1

फिर से गाँधी आयेंगे