IMG 20200419 WA0000 1
in

एक कदम घर की ओर

कदम बढ़ा रहा था, जाने क्यूं ओ घर की ओर ।

था पता उसे, नहीं है कुछ खाने को वहां, फिर भी घर की ओर ।।


एक उम्मीद भरी कदमे , चलता रहा ओ घर की ओर ।

कदम बढ़ा रहा था, जाने क्यूं ओ घर की ओर।।


पता नहीं दूरियां कितनी , हा सच में पता नहीं दूरियां कितनी,

निकल पड़ा ओ घर की ओर ।।


कदम बढ़ा रहा था ओ , जाने क्यूं ओ घर की ओर।। 

रख कर कंधो पर, जिम्मेदारी भरी बोरियां कदम बढ़ा रहा था ….


दूरियों की गिनतियां दिन में बता  कर चल दिए ओ घर की ओर ।

कदम बढ़ा रहा था , जाने क्यूं ओ घर की ओर

What do you think?

2 Comments

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.

1651986920711 2

पादाकुलक छंद “राम महिमा”

लेखिका मन्नू भंडारी

बृहत्तर सामाजिक सन्दर्भों की लेखिका मन्नू भंडारी