in

पवन छंद श्याम शरण

पवन छंद

 

श्याम सलोने, हृदय बसत है।

दर्श बिना ये, मन तरसत है।।

भक्ति नाथ दें, कमल चरण की।

शक्ति मुझे दें, अभय शरण की।।

 

पातक मैं तो, जनम जनम का।

मैं नहिं जानूँ, मरम धरम का।।

मैं अब आया, विकल हृदय ले।

श्याम बिहारी, हर भव भय ले।।

 

मोहन घूमे, जिन गलियन में।

वेणु बजाई, जिस जिस वन में।।

चूम रहा वे, सब पथ ब्रज के।

माथ धरूँ मैं, कण उस रज के।।

 

हीन बना मैं, सब कुछ बिसरा।

दीन बना मैं, दर पर पसरा।।

भीख कृपा की, अब नटवर दे।

वृष्टि दया की, सर पर कर दे।।

=================

पवन छंद विधान –

“भातनसा” से, ‘पवन’ सजति है।

पाँच व सप्ता, वरणन यति है।।

“भातनसा” = भगण तगण नगण सगण।

211   22,1  111  112 = 12 वर्ण का वर्णिक छंद, यति 5 और 7 वर्ण पर,

चार पद दो दो समतुकांत।

***********************

बासुदेव अग्रवाल ‘नमन’ ©

तिनसुकिया

 

What do you think?

Written by Sahitynama

साहित्यनामा मुंबई से प्रकाशित साहित्यिक पत्रिका है। जिसके साथ देश विदेश से नवोदित एवं स्थापित साहित्यकार जुड़े हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ग़ज़ल : जो है सोया क्या हाल पूछेगा

चौपई छंद “चूहा बिल्ली”