Screenshot 2022 02 04 214455
in

ज़िंदगी का मुसाफ़िर

ज़िंदगी का मुसाफ़िर

ज़िंदगी के सफर पे था मुसाफ़िर,

अन्त में अकेला रह गया।

रे मुसाफ़िर तू तो चल रहा था,

सफ़र ए ज़िंदगी में ख़ुद की तलाश में।

इस संसार में भटकता रहा,

अन्त में अकेला रह गया।

नए मुसाफ़िर मिले,

रिस्ते बने, यार मिले,

दिल जुड़े, दिल टूटे।

मिलन जुदाई का समा चलता रहा,

अन्त में अकेला रह गया मुसाफ़िर।

हर नई शुरुआत में,

छोड़ अपना घर – यार,

निकल पड़ा उस के अंजाम पर।

किस्तों में था मुसाफ़िर

अन्त में अकेला रह गया।

चलते चलते हुई उन से मुलाकात,

उस का साथ क्या छूटा,

तेरा तो आशियाना टूटा।

पल पल टूटा था तू तो,

अन्त में अकेला रह गया मुसाफ़िर।

आई मौत तो,

अपने ही छोड़ आए उसे,

ये भी न देखा कहा गया मुसाफ़िर।

था अकेला सफ़र पे,

अन्त में भी अकेला रह गया मुसाफ़िर।

ज़िन्दगी की सफ़र पे था मुसाफ़िर,

अन्त में अकेला ही रह गया।

✍🏻पार्थसिंह राजपूत

What do you think?

Written by Parth

Leave a Reply

Your email address will not be published.

FB IMG 16435638996349159

मुझे पसंद है

बँटवारा रिश्तों का

बँटवारा रिश्तों का