Dulhan
in

कहानी : नम्बर -2

आज अकेले बैठे हुए नीरजा फिर से अतीत की यादों में खो गयी थी। उसे वो सब बातें याद आने लगी जिन बातों ने कदम कदम पर उसके दिल को गहरे जख्म दिए थे। हालांकि देखने वालों को यही लगता था कि वो अपने घर संसार और अपने पति बच्चों के साथ बहुत खुशहाल जीवन जी रही थी लेकिन वो जख्म जो उसने दिल के अंदर छुपा रखे थे वो कभी कभी जब भी दोबारा जाग जाते तो उसके तन मन को बहुत लहूलुहान कर देते।
उसके दर्द की शुरुआत तब हुई जब वो अपने माँ बाप के घर उनकी दूसरी सन्तान के रुप में पैदा हुई। चूंकि पहली संतान लड़का थी और वो पहले बच्चा होने के कारण उसे हमेशां इम्पोर्टेंस मिली और फिर तीसरी और चौथी संतान को भी इसलिए ज्यादा प्यार मिला क्योंकि एक तो छोटी बहन थी और एक भाई वो भी सबसे छोटा और सबका लाडला था। और उसके हिस्से में आई जिम्मेदारी और बाकी भाई बहनों ओर घर की देखभाल में माँ की मदद करना।
उसके बाद आई स्कूल की बारी हर क्लास में वो हमेशां टॉपर रही लेकिन जब बोर्ड एग्जाम हुए तो दिन रात एक करके उसने तयारी की। जब रिजल्ट आया तो पहले उसको टॉपर घोषित किया गया बाद में पता चला कि किसी और स्टूडेंट के २ मार्क्स ज्यादा आ गए और वो फिर दूसरे नम्वर पर आ गयी।
उसके बाद कॉलेज स्टार्ट हुआ वहां भी वो हमेशां पढ़ाई में अव्वल आती रही। लेकिन जब फाइनल एग्जाम का रिजल्ट आया तो पता चला कि हमेशां बहुत कम नम्बरों से पास होने वाली एक स्टूडेंट ने टॉप किया है। सभी उस लड़की को बधाई दे रहे थे लेकिन नीरजा जानती थी के उसकी बहन उसी कॉलेज में प्रोफेसर है और उसको किस तरह एग्जाम में धोखे से पेपर करवाये गए। लेकिन खूब मेहनत करने वाली को मिला दूसरा स्थान। उसकी तकलीफ ओर दर्द किसी को नज़र नही आये।
फिर उसकी शादी हो गयी। शादी करके वो जिस घर मे गयी वहां भी पहले से एक बहु यानी उसकी जेठानी मौजूद थी और वो दूसरे नम्बर की ही बहु बन कर रह गयी। जेठानी जिस घर मे पहले से हो उस घर में अपनी जगह बनाने के लिए दूसरे नम्बर की बहू को बहुत कुछ झेलना और बहुत संघर्ष करना पड़ता है।
ये सब भी वो खुशी खुशी कर लेती लेकिन उसको सबसे बड़ा शूल तो तब लगा जो कि उसके दिल के हर हिस्से को तार तार कर गया जब उसको पता चला कि पति की ज़िंदगी मे भी पहले कोई थी और वहां भी उसका नम्बर दूसरा ही है। उस पहले नम्बर को वहां से हटा के खुद को दूसरे से पहले नम्बर तक पहुंचने में शायद उसकी पूरी ज़िंदगी भी कम पड़ जाए।
लेकिन औरत अपनी ज़िंदगी मे कदम कदम पर समझौते ही तो करती है तो उसने भी इस बात के साथ समझौता कर लिया था कि ये हमेशां २ नम्बर पर रहना उसकी जिंदगी की नियति है।

What do you think?

Written by Sahitynama

साहित्यनामा मुंबई से प्रकाशित साहित्यिक पत्रिका है। जिसके साथ देश विदेश से नवोदित एवं स्थापित साहित्यकार जुड़े हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

परवरिश

बच्चों की परवरिश – एक कठिन कार्य

श्रम और श्रमिकों की प्रतिष्ठा