जुगाड

वोट पडने के बाद जीत को लेकर किसी ने कुछ उलटसुलट बोला तो रहीम ने उसका काल पकड लिया । तेरी ये मजाल ...हमारे भाई को कुछ कहे । बात की बात में लाठी ईंटा पत्थ चल गये ।

Mar 13, 2024 - 17:27
 0  20
जुगाड
idea

चुनाव के दिन । रैलियों और चुनाव सभाओं का दौर । मटिया महल के चौंक में सजी विशाल सभा में नेता जी जोशीला भाषण दे रहे थे । लोग मंत्रमुग्ध होकर उनका चेहरा देख रहे थे । अचानक नेताजी की नजर भीङ में बैठे रहीम पर पडी ।

अगले ही पल कार्यकर्त्ता उसे उठा कर मंच पर ले आये थे । इससे पहले कि वह कुछ समझ पाता , नेताजी ने उसे गले लगा लिया । भीड में नेताजी की जय के नारे गूंजने लगे थे । सभा की समाप्ति पर नेताजी ने उसे शाम को गैस्ट हाऊस आने का निमंत्रण दिया और वह चार बजतेबजते गैस्ट हाऊस पहुँच गया ।

ये पचास लेडिस सूट और ये तीस रम जिसको चाहे दो और ये दो सौ रखो , अपना नया कमीज पैजामा सिलवा लेना । देखना तुम्हारी गली के सारे वोट ......तुम्हारे भाई की इज्जत का सवाल है ।

वोट पडने के बाद जीत को लेकर किसी ने कुछ उलटसुलट बोला तो रहीम ने उसका काल पकड लिया । तेरी ये मजाल ...हमारे भाई को कुछ कहे । बात की बात में लाठी ईंटा पत्थ चल गये ।

थोडी देर बाद रहीम बुरी तरह से घायल अस्पताल में भरती था । उसके कई साथी भी घायल हुए थे । विरोध करने वाले पुलिस लाक अप पहुँच चुके थे । दोनों पार्टियां अपने अपने नेता को फोन मिलाने की कोशिश कर रही थी पर दोनों नेताओं के फोन आउट आफ कवरेज एरिया हो गये थे . नेताजी मंत्री पद की जुगाड लगाने राजधानी में थे और विपक्षी नेता हार का गम भुलाने की जुगाड में ।.

स्नेह गोस्वामी

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow