in

प्रेम सिंधारा

मीता और मयंक की शादी को चार महीने होने को आये,दोनों का प्रेम विवाह हुआ है, मंयक के परिवार वालों ने तो इस रिश्ते को आगे बढ़कर अपनी स्वीकृति दी और स्वागत किया ।लेकिन ना जाने क्यों मीता के परिवार वाले इस रिश्ते को स्वीकृति देने में अपनी बेइज्जती महसूस करते रहे, क्योंकि मंयक उनकी जाति का नहीं है। जबकि आज के समय में उन्हें ये समझना चाहिए कि मंयक एक पढ़ा-लिखा समझदार और अच्छे परिवार से संबंध रखने वाला लड़का है ,और सबसे बड़ी बात तो वो मीता को बेहद प्यार करता है, और उसे जिंदगी भर खुश रखेगा।

मीता के ससुराल में सभी बहुत अच्छे और भले लोग हैं, सभी से उसे ढेर सारा प्यार और दुलार मिला है, क्योंकि मंयक चारों भाइयों में सबसे छोटा और लाडला है, इसलिए मीता भी घर भर की लाडली बहू है।

मीता की जेठानियां भी उसे छोटी बहन जैसा ही प्यार दुलार देती है । और सासू मां सुगंधा जी का तो कहना ही क्या… लगता ही नहीं कि वह सासू मां है, कहने को उनके सिर्फ चार बेटे हैं, लेकिन बहुओं को बेटियों से बढ़कर प्यार और दुलार देती है, हर बात प्यार से समझाती है।

सुगंधा जी का मानना है कि बहुएं अपना सब कुछ छोड़कर नये परिवार में आती है, और सभी को अपना मानती है, तो हमें भी बहुओं को बेटियों जैसा ही इज्जत और प्यार देना चाहिए।

लेकिन ससुराल में कितना भी प्यार दुलार मिले कितना भी ससुराल संपन्न हो,तीज और त्यौहारों पर मायके की याद आती ही है, एक बेटी के लिए मायका वह धूरी है जिसकी यादों के साए से वो शायद ही जिंदगी भर निकल पाती है।

चाहे जो उम्र हो जाए मायके का नाम आने पर पता नहीं मन भावविभोर हो ही जाता है ।बुजुर्ग से बुजुर्ग महिला भी मायके की यादों में पहुंचते छोटी बच्ची बन जाती है।

तो फिर आज तो मीता की ससुराल में पहली हरियाली तीज है, सभी जेठानियों के मायके से सिंधारे आए हैं, घर में बहुत चहल पहल है, मीता सबके साथ हंसती है, बोलती है, मुस्कुराती है, लेकिन मन ही मन बहुत उदास है।

तभी दरवाजे की घंटी बजती है कोरियर वाला मीता के नाम का कोरियर मीता को देता है, मीता मन ही मन सोचती है,किसने भेजा होगा ? सोचते सोचते ही वो कोरियर खोलती है, तो देखती है उसमें उसके नाम का पूरा श्रंगार ,गुजिया, मीठे फल नमकीन और उसके मनपसंद रंग बसंती पीले रंग की जरी बार्डर  की साड़ी रखी हुई हैं,  और ढेर सारी चूड़ियां भी  साथ है।

उसमें रखी एक चिट्ठी जिसमें लिखा है “मेरी प्यारी  मीता बिटिया  को उसका पहला सिंधारा शुभ हो ।
शुभकामनाओं सहित तुम्हारी मां
सुगंधा

मीता की आंख से नेह के आंसू झर झर झरने लगते हैं, और वो जाकर अपनी सास सुगंधा के गले लग जाती है, कुछ कह नहीं पाती, उसकी सारी भावनाएं मूक हो जाती है।

तभी सुगंधा जी मीता के गाल पर प्यार से चपत लगाती हैं, और कहती हैं,रोती क्यूं है पगली ..क्या मैं तेरी मां नहीं?

उस एक प्यारे पल पर मीता और उसका पूरा परिवार मुस्कुराने  लगता है और सब मिलकर मीता की पहली हरियाली तीज पर्व  को खुशीयों के साथ धूमधाम से मनाते हैं।

ऋतु गुप्ता
खुर्जा बुलंदशहर
उत्तर प्रदेश

What do you think?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बेड़ियाँ

मल्टीटास्कर की भूमिका और हमारा स्वास्थ्य